हथेली पे मेरा नसीब था!

मैं उसको देखने को तरसती ही रह गई,
जिस शख़्स की हथेली पे मेरा नसीब था|

अंजुम रहबर

Leave a Reply