हर मोड़ पे रुसवाई!

आवारा हैं गलियों में मैं और मेरी तनहाई,
जाएँ तो कहाँ जाएँ हर मोड़ पे रुसवाई|

अली सरदार जाफ़री

Leave a Reply