इक ख़त छुपा रही थी!

कल मेरी एक प्यारी सहेली किताब में,
इक ख़त छुपा रही थी कि तुम याद आ गए|

अंजुम रहबर

Leave a Reply