और समुंदर क़रीब था!

बस्ती के सारे लोग ही आतिश-परस्त थे,
घर जल रहा था और समुंदर क़रीब था|

अंजुम रहबर

Leave a Reply