कभी लौटकर न आएगा!

ये ज़िंदगी का मुसाफ़िर ये बे-वफ़ा लम्हा,
चला गया तो कभी लौटकर न आएगा|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply