चराग़ जलाने इधर न आएगा!

‘वसीम’ अपने अँधेरों का ख़ुद इलाज करो,
कोई चराग़ जलाने इधर न आएगा।

वसीम बरेलवी

Leave a Reply