ज़िन्दगी की तरफ देखना गया!

अच्छा है जो मिला वो कहीं छूटता गया,
मुड़ मुड़ के ज़िन्दगी की तरफ देखना गया|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply