कई चेहरे सजा लेते हैं लोग!

जब भी चाहें एक नई सूरत बना लेते हैं लोग,
एक चेहरे पर कई चेहरे सजा लेते हैं लोग|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply