कौन सियाही घोल रहा था!

कौन सियाही घोल रहा था वक़्त के बहते दरिया में,
मैंने आँख झुकी देखी है आज किसी हरजाई की|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply