महफ़िले-जानाँ से उठ आए!

यार से हमको तगाफ़ुल का गिला है बेजा,
बारहा महफ़िले-जानाँ से उठ आए ख़ुद भी|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply