हमें याद न आए खुद भी!

कितने ग़म थे कि ज़माने से छुपा रक्खे थे,
इस तरह से कि हमें याद न आए खुद भी|

अहमद फ़राज़

2 Comments

Leave a Reply