कितने शहर समंदर के हो गये!

रोते हो एक जजीरा-ए-जाँ को “फ़राज़” तुम,
देखो तो कितने शहर समंदर के हो गये|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply