ख़ुद उसी काफिर के हो गये!

समझा रहे थे मुझ को सभी नसेहान-ए-शहर,
फिर रफ्ता रफ्ता ख़ुद उसी काफिर के हो गये|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply