हम भी तो पत्थर के हो गये!

ऐ याद-ए-यार तुझ से करें क्या शिकायतें,
ऐ दर्द-ए-हिज्र हम भी तो पत्थर के हो गये|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply