अपने आपको छलना जारी है!

तपती रेत पे दौड़ रहा है दरिया की उम्मीद लिए,
सदियों से इन्सान का अपने आपको छलना जारी है|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply