और मर जाता हूँ मैं!

शाम को जिस वक़्त ख़ाली हाथ घर जाता हूँ मैं,
मुस्कुरा देते हैं बच्चे और मर जाता हूँ मैं|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply