फिर भी उधर जाता हूँ मैं!

जानता हूँ रेत पर वो चिलचिलाती धूप है,
जाने किस उम्मीद में फिर भी उधर जाता हूँ मैं|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply