ये ज़िस्म बदलना जारी है!

रोज़ सवेरे दिन का निकलना, शाम में ढलना जारी है,
जाने कब से रूहों का ये ज़िस्म बदलना जारी है|

राजेश रेड्डी

2 Comments

Leave a Reply