ये डगर कुछ और ही है!

आपके रस्ते हैं आसाँ आपकी मंजिल क़रीब,
ये डगर कुछ और ही है जिस डगर जाता हूँ मैं|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply