इक दर्द से दो-चार होगा!

वो निकला है फिर इक उम्मीद लेकर,
वो फिर इक दर्द से दो-चार होगा|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply