कोई पागल भेजो न!

मैं बस्ती में आख़िर किस से बात करूँ,
मेरे जैसा कोई पागल भेजो न|

राहत इन्दौरी

2 Comments

Leave a Reply