धूप का संदल भेजो न!

सारे मौसम एक उमस के आदी हैं,
छाँव की ख़ुश्बू, धूप का संदल भेजो न|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply