बाज़ारों की हलचल भेजो न!

बस्ती बस्ती दहशत किसने बो दी है,
गलियों बाज़ारों की हलचल भेजो न|

राहत इन्दौरी

2 Comments

Leave a Reply