भिखारी पहन के आते हैं!

अमीर ए शहर तेरे जैसी क़ीमती पोशाक,
मेरी गली में भिखारी पहन के आते हैं।

राहत इन्दौरी

2 Comments

Leave a Reply