मदारी पहन के आते हैं!

यही अकीक़ थे शाहों के ताज की जीनत,
जो उँगलियों में मदारी पहन के आते हैं।

राहत इन्दौरी

Leave a Reply