सफारी पहन के आते हैं!

इबादतों की हिफाज़त भी उनके जिम्मे है,
जो मस्जिदों में सफारी पहन के आते हैं।

राहत इन्दौरी

Leave a Reply