इक ख़्वाब हमको घेरे था!

हमको उठना तो मुँह अँधेरे था,
लेकिन इक ख़्वाब हमको घेरे था|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply