इस गुल में कोई सोता क्या!

गली में शोर था मातम था और होता क्या,
मैं घर में था मगर इस गुल में कोई सोता क्या|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply