ज़िंदगी से यूँ खेले!

अपनी वजहे-बरबादी सुनिये तो मज़े की है,
ज़िंदगी से यूँ खेले जैसे दूसरे की है|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply