बात हुई है उसे भुलाने में!

वह शक्ल पिघली तो हर शय में ढल गयी जैसे,
अजीब बात हुई है उसे भुलाने में|

जावेद अख़्तर

2 Comments

Leave a Reply