मेरे हिस्से का सूरज भी खा गए!

ऊँची इमारतों से मकां मेरा घिर गया,
कुछ लोग मेरे हिस्से का सूरज भी खा गए|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply