क्यों गिला फिर हमें हवा से रहे!

उन चराग़ों में तेल ही कम था,
क्यों गिला फिर हमें हवा से रहे|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply