घर आ के बेटी मुस्कुराती है!

तभी जाकर कहीं माँ-बाप को कुछ चैन पड़ता है,
कि जब ससुराल से घर आ के बेटी मुस्कुराती है|

मुनव्वर राना

Leave a Reply