फिर भी मुस्कुराती है!

हमें ऐ ज़िन्दगी तुझ पर हमेशा रश्क आता है,
मसायल से घिरी रहती है फिर भी मुस्कुराती है|

मुनव्वर राना

Leave a Reply