अपने लहू से उसे ख़त लिखता हूँ!

रोज़ मैं अपने लहू से उसे ख़त लिखता हूँ,
रोज़ उंगली मेरी तेज़ाब में आ जाती है|

मुनव्वर राना

Leave a Reply