इसी पंजाब में आ जाती है!

दिल की गलियों से तेरी याद निकलती ही नहीं,
सोहनी फिर इसी पंजाब में आ जाती है|

मुनव्वर राना

Leave a Reply