माँ दुआ करती हुई!

जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है,
माँ दुआ करती हुई ख़्वाब में आ जाती है|

मुनव्वर राना

Leave a Reply