मैंने जो बोया नहीं!

जुर्म आदम ने किया और नस्ले-आदम को सजा,
काटा हूँ जिंदगी भर मैंने जो बोया नहीं|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply