इक शक्ल की हसरत भी थी!

फूल थे बादल भी था, और वो हसीं सूरत भी थी,
दिल में लेकिन और ही इक शक्ल की हसरत भी थी|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply