जिनसे हमें उल्फत भी थी!

क्या क़यामत है ‘मुनीर’ अब याद भी आते नहीं,
वो पुराने आशना जिनसे हमें उल्फत भी थी|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply