करवटें, बेताबियाँ, अँगड़ाइयाँ!

क्या ज़माने में यूँ ही कटती है रात,
करवटें, बेताबियाँ, अँगड़ाइयाँ|

कैफ़ भोपाली

Leave a Reply