चूड़ियाँ, मौसीकियाँ, शहनाइयाँ!

मेरे दिल की धड़कनों में ढल गई,
चूड़ियाँ, मौसीकियाँ, शहनाइयाँ|

कैफ़ भोपाली

Leave a Reply