वुसअतें, खामोशियाँ, गहराइयाँ!

‘कैफ’ पैदा कर समंदर की तरह,
वुसअतें, खामोशियाँ, गहराइयाँ|

कैफ़ भोपाली

Leave a Reply