जिसका कोई साया भी नहीं!

प्यास वो दिल की बुझाने कभी आया भी नहीं,
कैसा बादल है जिसका कोई साया भी नहीं|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply