जिसे पास बुलाया भी नहीं!

रोज़ आता है दर-ए-दिल पे वो दस्तक देने,
आज तक हमने जिसे पास बुलाया भी नहीं|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply