बो न सके जो कभी सहराओं में!

उनको भी है किसी भीगे हुए मंज़र की तलाश,
बूँद तक बो न सके जो कभी सहराओं में|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply