वो फ़साना जो कभी–

सुन लिया कैसे ख़ुदा जाने ज़माने भर ने,
वो फ़साना जो कभी हमने सुनाया भी नहीं|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply