अब तो महंगाई के चर्चे हैं!

हौसला किसमें है यूसुफ़ की ख़रीदारी का,
अब तो महंगाई के चर्चे हैं ज़ुलैख़ाओं में|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply