उस झोली को फैलाना क्या!

इस दिल के दरीदा दामन को देखो तो सही सोचो तो सही।
जिस झोली में सौ छेद हुए उस झोली को फैलाना क्या॥

इब्ने इंशा

2 Comments

Leave a Reply