वो बात भी थी अफ़साना क्या!

उस रोज़ जो उनको देखा है अब ख़्वाब का आलम लगता है।
उस रोज़ जो उनसे बात हुई वो बात भी थी अफ़साना क्या॥

इब्ने इंशा

Leave a Reply